About Us Media Center

Vishwa Hindi Vageshwari Samman 2017

(चित्र में तेजेन्द्र शर्मा को सम्मानित करते हुए बाएं से

श्री श्री रवि शंकर, पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल एवं श्री एच.सी. गणेशिया। )

 

ब्रिटेन के हिन्दी कथाकार तेजेन्द्र शर्मा

का पुणे में सम्मान

 

विश्व हिन्दीसाहित्य परिषद ने 19 अप्रैल 2017 को पुणे में लंदन के कथाकार श्री तेजेन्द्र शर्मा को हिन्दी साहित्य में योगदान के लिये विश्व वागेश्वरी सम्मान 2017 से सम्मानित किया।

यह सम्मान उन्हें पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल एवं आध्यात्मिक विभूति श्री श्री रविशंकर के हाथों मिला।

मानपत्र में लिखा गया है - "उत्कृष्ठ रचनाकर्म, राष्ट्रचेतना समर्पण, पर्यावरण संवरद्धन, उहारणीय कर्त्तव्य निष्ठा और श्रेष्ठ सामाजिक सरोकारों हेतु भारत की पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल और विश्व विख्यात आध्यात्मिक विभूति श्री श्री रविशंकर जी के सान्निध्य में आपको यह विशिष्ट सम्मान प्रदान करते हुए परिषद गौरवान्वित अनुभव करती है।"

श्री तेजेन्द्र शर्मा को इससे पहले केन्द्रीय हिन्दी संस्थान, यू.पी. हिन्दी संस्थान, हरियाणा साहित्य अकादमी, महाराष्ट्र साहित्य अकादमी एवं भारतीय उच्चायोग द्वारा भी उनके साहित्यिक योगदान के लिये सम्मानित किया जा चुका है। 

इस कार्यक्रम में संत शिरोमणि श्री श्री रविशंकर के सान्निध्य ने एवं मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व राष्ट्रपति महामहिम श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने अपनी उपस्थिति से समारोह को गरिमापूर्ण बना दिया ।

 
विशिष्ट अतिथि के रूप में संसदीय कार्य मंत्री श्री गिरीश बापटे तथा पुणे की मेयर श्रीमती मुक्ता तिलक उपस्थित थी ।
परिषद् के कुलाधिपति श्री हुकम चंद गणेशिया और परिषद् के संस्थापक अधक्ष्य आशीष कंधवे भी मंच पर उपस्थित थे । 

श्री श्री रविशंकर ने अपने भाषण में कहा कि यह हर भारतीय के लिये ज़रूरी है कि वह अपने देश की भाषाओं में ही काम करें। हिन्दी हमारी राष्ट्रभाषा है इसलिये हमारी संपर्क भाषा होने का हक़ उसी का बनता है।
पुणे शहर के अण्णा भाऊ साठे सभागार में 1000 से ज्यादा सामाजिक कार्यकर्ता ,साहित्य प्रेमी एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों से शोभायमान था ।

---

May 25, 2017
 
image image image image image image image image image image image image image image
Go to Navigation