About Us Media Center

Text of PM's remarks at the Townhall Q&A with Mark Zuckerberg at the Facebook Headquarters

Mr. Mark Zuckerberg: Prime Minister Modi, it’s an honour to welcome you to Facebook. And thank you to everyone here in Hacker Square, and in our community watching us live in India and around the world.

You know, India is personally very important to the history of our company here. This is a story that I haven’t told publically and very few people know, but early on in our history – before things were really going well and we had hit a tough patch and a lot of people wanted to buy Facebook and thought we should sell the company – I went and I saw one of my mentors, Steve Jobs. And he told me that in order to reconnect with what I believed as the mission of the company, I should visit this temple that he had gone to in India early on in his evolution of thinking about what he wanted Apple and his vision of the future to be.

And so I went and I travelled for almost a month, and seeing the people, seeing how people connected, and having the opportunity to feel how much better the world could be if everyone had a stronger ability to connect, reinforced for me the importance of what we were doing. And that is something that I’ve always remembered over the last 10 years as we’ve built Facebook.

We had a great conversation last year, in Delhi. And I am looking forward to having a conversation with you and our entire community about how you see the future of India and the world. When I think about the future, I’m personally excited about India for a number of reasons.

First, one the greatest opportunities we have in the world today, is to connect everyone to the Internet. The internet provides access, not only to entertainment and communication, but also vital information about health, education, and jobs. In fact, for every 10 people who gain access to the internet, about one person gets lifted out of poverty, and about one new job gets created.

Now, there’s still a billion people in India who we need to connect to the internet. And connecting them represents one of the greatest opportunities available to humanity today. So I am deeply appreciative of Prime Minister Modi’s commitment to Digital India, to make this enormous opportunity a reality for all Indians, and I am personally also impressed by the example Prime Minister Modi has set of using the internet and social media to communicate directly with Indian citizens. Whether spreading messages of peace, or campaigning for women’s rights, of children’s development, or Digital India, it’s fitting that the leader of the world’s largest democracy is also setting the example for all world leaders for how they should connect with their citizens in the future.

When everyone can make their voices heard online, that’s when we can have meaningful conversations about the future. And that’s how society can come together and achieve the shared goals.

So, the last time that a Prime Minister of India visited California was in 1982. And a lot has changed since then. Today India is a global leader, Indian businesses and culture are transforming people’s lives around the world, and for India to keep making progress, India needs to be a leader online.

And, Prime Minister Modi, you are an example of what that looks like. So I’m excited to hear today about how you see these goals, and why the world should be optimistic about the future of India.

Thank you and welcome to Facebook.

Prime Minister, Shri Narendra Modi: मार्क, मैं आपका बहुत आभारी हूं कि आज मुझे फेसबुक के हेडक्‍वार्टर पर आ करके दुनिया जिसके साथ जुड़ी है उनके साथ मुझे आज रूबरू में जुड़ने का अवसर मिला है।

विज्ञान और आध्‍यात्‍म का नाता ऐसा हो भी सकता है, वो शायद मार्क ने आज न बताया होता, तो दुनिया को पता नहीं चलता। अमेरिका से एक नौजवान कुछ करने के सपने देखता है और विज्ञान की दुनिया में जिसने सफलता पाई है, वैसे उसके गुरू उसे कहते है कुछ भी करने से पहले हिन्‍दुस्‍तान जाओ, वहां किसी temple में जाओ. और वहां जा करके तुम अपनी बात बताओ. तुम्‍हें रास्‍ता मिल जाएगा। ये बात अपने आप में एक अजूबा है। दुनिया के लोगों के लिए आज, मार्क, आपकी बात सुन करके बहुत बड़ा आश्‍चर्य हुआ होगा। और मैं आशा करता हूं कि जो प्रेरणा आपको मिली है, जिस प्रेरणा से आपने इस काम को प्रारंभ किया है… ये सिर्फ कंपनी की बैंक अकांउट को बढ़ाने वाला काम नहीं रहेगा, ये दुनिया के करोड़ों-करोड़ों लोगों की आवाज बनेगा। ये दुनिया के करोड़ों-करोड़ों लोगों के aspiration की अभिव्‍यक्ति का माध्‍यम बनेगा, और ये आपका प्रयास सामान्‍य मानव की आशा-आकांक्षाओं की पूर्ति करने की जिनकी जिम्‍मेवारी है, उनको जगाए रखेगा, और उस अर्थ में मैं आपके इस प्रयास को अभिनंदन करता हूं, धन्‍यवाद करता हूं।

आपने सवाल पूछा कि लोग भारत के पास बड़ी आशाभरी नजर से देख रहे है। आपको क्‍या लगता है? जब आप भारत आए, आप किसी टेम्‍पल में गए बड़ी आशा भरी नजर से, और देखिए आप कहां से कहां पहुंच गए! आपका अनुभव कहता है कि जो भारत से आशाएं-अपेक्षाएं है, सामर्थ्‍य भारत में है वो आपका खुद का अनुभव बता रहा है। ये दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। अगर आर्थिक नजरिए से देखा जाए – चाहे World Bank हो, IMF हो, दुनिया की सारी Rating Agencies हो – एक स्‍वर से सब लोग कह रहे है कि आज विश्‍व के बड़े देशों की fastest growing economy अगर कोई है तो वो है भारत।

आज हम 8 ट्रिलियन डॉलर Economy है। मेरा ड्रीम है 20 ट्रिलियन डॉलर economy में convert करने का। और उस काम को करना है मुझे तो तीन बातों पर मैं बल दे रहा हूं: Agriculture sector, Services sector and Manufacturing sector. आप वो लोग दुनिया से जुड़े हुए है, जिनका सबसे बड़ा कन्‍ट्रिब्‍यूशन सर्विस सेक्‍टर में है। और मैं सर्विस सेक्‍टर की ताकत बहुत बड़ी देख रहा हूं।

अकेला अगर टूरिज्‍म ले लें, अकेला टूरिज्‍म। भारत के पास टूरिज्‍म के क्षेत्र में इतनी संभावनाएं पड़ी है, जॉब क्रिऐशन के लिए इतनी संभावनाएं पड़ी है और आज की technology ने विश्‍व को इतना निकट ला करके रख दिया है, इतने अपनेपन को पैदा कर दिया है। और टूरिज्‍म अगर बढ़ता है तो सर्विस सेक्‍टर को, जॉब क्रिएशन को… यानी quality of life में change लाने में एक बहुत बड़ी ताकत बनती है। और उस अर्थ में मैं देखता हूं, कि पिछले साल-सवा साल में भारत के प्रति जो नजरिया बदला है, आज कहीं पर भी किसी भारतीय को किसी विदेशी व्‍यक्ति से मिलने का अवसर मिलता है तो वो बड़े गर्व के भाव से देखता है। इतने कम समय में ये perception बदल जाना, ये उस

Sep 28, 2015
 
image image image image image image image image image image image image image image image
Go to Navigation